Pages

Monday, July 27, 2015

કેટલાક સમાનતા ધરાવતા અશઆર

અલગ અલગ વિષયો પરના સમાન અશઆરનો સમૂહ લઈને ફરીથી હાજર થયો છું. ચાલો માણીએ:

(1) માણસ સ્વયમ પોતાનું નડતર:

2010માં આવેલી હોલીવૂડની સાયકોથ્રિલર ફિલ્મ 'બ્લૅક સ્વાન'માં એક સંદેશ હતો: The only person standing in your way is you. આ વિચારનો પડઘો પાડતાં કેટલાંક શેર: 

ક્યાંક શત્રુઓ નડ્યા છે, ક્યાંક મિત્રો પણ નડ્યા,
જ્યાં કશું નડતર નહોતું ત્યાં નડ્યો છું હું મને!
(ખલીલ ધનતેજવી)

પંડે પનોતી થૈ ગયા
ખુદને હવે નડીએ છીએ
(અદમ ટંકારવી)

જતાં ને આવતાં મારે જ રસ્તે,
બની પથ્થર, હું પોતાને નડ્યો છું
(શયદા)

खुद है अपनी सफ़र की दुश्वारी
अपने पैरों के आबले हैं हम
(जावेद अख़्तर)

(2) સીધી વાતને જટિલ બનાવવી:
બક્ષીસાહેબ કહેતા કે સહેલું લખવું અઘરું છે, અઘરું લખવું સહેલું છે, પણ કેટલાંક લોકોને સરળ વાતને ગોળગોળ ફેરવીને અઘરી ભાષામાં રજૂ કર્યા વિના ચેન પડતું નથી. આ વાત વ્યક્ત કરતાં બે શેર:

ક્યારેક સીધીસાદી સરળ વાત હોય પણ,
ચિંતકના હાથમાં ચડી ચૂંથાઈ જાય છે
(રઈશ મનીઆર)

જગતના તત્ત્વજ્ઞાનીઓમાં મારું નામ બોલાશે,
સરળ વાતો હું જ્યારે ચૂંથતા શીખી ગયો હોઈશ!
(જલન માતરી)

(3) પર્વત-પાંપણ:
પથ્થરોના ઘા સહન કરી જનાર માણસને ફૂલોની મુલાયમિયત જખ્મી કરે એવા શેર સાંભળ્યા હશે. પર્વતના પડકારો ઝીલનારો માણસ નજાકતભરી પાંપણોની સામે શરણાગતિ સ્વીકારી લે એ ભાવ વ્યક્ત કરતા શેર જોઈએ:

પર્વતો કૂદી જનારો સહેજમાં ભાંગી પડ્યો,
આ વખત એ કોઈની પાંપણથી પટકાયો હતો
(ખલીલ ધનતેજવી)

ગની પર્વતોની સામે રહ્યું છે આ શીશ અણનમ,
કોઇ પાંપણો ઢળી છે તો હું ઝૂકી ઝૂકી ગયો છું.
(ગની દહીંવાલા)

પર્વતને ઊંચકું પણ પાંપણ ન ઊંચકાતી,
આ ઘેન જેવું શું છે, આ કારી ઘાવ શું છે?
(રાજેન્દ્ર શુક્લ)

(4) મનુષ્યમાં ઊંડાણનો અભાવ:

નવાઈ છે કે ઊંડાણોય છીછરાં નીકળે,
કોઇ મનુષ્યની અંદર ડૂબી શકાતું નથી
(રમેશ પારેખ)

ડૂબી ડૂબીને ડૂબવાનું શું માણસમાં?
એક વેંત ઊતરો ત્યાં તો તળિયા આવે!
(અશરફ ડબાવાલા)

(5) જીવનની કહાણી: 

તૂટક તૂટક કહો તો વિતક સુણાવી દઉં,
મને એ રામ કહાણી સળંગ યાદ નથી. 
(અમૃત ઘાયલ)

બેચાર પ્રસંગો છે જે હું કહેતો ફરું છું,
ક્યાં છે હવે મારી મને સંપૂર્ણ કથા યાદ?
(સૈફ પાલનપુરી)

(6) દીવાનગી-પાગલપન:

'ગની' દીવાનગીનું આટલું સૌજન્ય સ્વીકારો,
કે એણે જિંદગીને કંઈક અંશે બેફિકર રાખી
(ગની દહીંવાલા)

સમજદારીની કોઇ વાત સ્વીકારી નથી શકતો
કહે છે કોણ? પાગલને બંધન નથી હોતાં
(સૈફ પાલનપુરી)

મને શંકા પડે છે કે દીવાના શું દીવાના છે?
સમજદારીથી અળગા થઈ જવાના સૌ બહાના છે,
(જલન માતરી)

Friday, July 24, 2015

बारिशों के मौसम में....

પાકિસ્તાનમાં કરાચી ખાતે રહેતાં એક બા-ઝોક (સહૃદયી) ફેસબુક મિત્ર સઈદ શાહિદ અલીની વૉલ પર વાંચેલી કોઇ અજ્ઞાત ઉર્દૂ શાયરની રચના બહુ પસંદ પડતા એનું હિન્દી લિપ્યંતરણ અને ગુજરાતી અનુવાદ રજૂ કરું છું:
بارشوں کے موسم میں 
تم کو یاد کرنے کی
عادتیں پرانی ہیں
اب کی بار سوچا ہے
عادتیں بدل ڈالیں
پھر خیال آیا کہ
عادتیں بدلنے سے
بارشیں نہیں رکتیں۔۔۔۔۔۔۔!
[شاعر: نامعلوم]

बारिशों के मौसम में
तुमको याद करने की
आदतें पुरानी हैं
अब की बार सोचा है
आदतें बदल डालें
फिर ख़याल आया कि
आदतें बदलने से
बारिश नहीं रुकतीं!

વરસાદની ઋતુમાં તને યાદ કરવાની આદત જૂની છે
આ વખતે વિચાર્યું છે કે આ આદત બદલું,
પછી વિચાર આવ્યો કે
આદત બદલવાથી વરસાદ 
કંઈ વરસતો અટકી જવાનો છે?

Saturday, July 11, 2015

मज़ारिअ मुसम्मन अख़रब मक्फ़ूफ़ मक़्सूर महज़ूफ़ छंद के कुछ उदाहरण - 3

मज़ारिअ मुसम्मन अख़रब मक्फ़ूफ़ मक़्सूर महज़ूफ़ छंद के कुछ ओर उदाहरण, भाग-3 
221 2121 1221 212, ગાગાલ ગાલગાલ લગાગાલ ગાલગા

(21)
یہ اور بات تیری گلی میں نہ آئیں ہم
لیکن یہ کیا کہ شہر ترا چھوڑ جائیں ہم

ये और बात तेरी गली में न आएँ हम
लेकिन ये क्या कि शहर तिरा छोड़ जाएँ हम
                                                                 हबीब जालिब

(22)
ٹوٹا تو ہوں مگر ابھی بکھرا نہیں فرازؔ
میرے بدن پہ جیسے شکستوں کا جال ہو

टूटा तो हूँ मगर अभी बिखरा नहीं 'फ़राज़'
मेरे बदन पे जैसे शिकस्तों का जाल हो

(23)
બીજું કશુંય કરવા સમું પ્રાપ્ત થાય તો
સાચું કહું છું હુંય પછી પ્રીત નહીં કરું
                                                                                                   - રઈશ મણીઆર
(24)
रावण मेरे वजूद में ज़िंदा है आज भी
सौ बार मन का राम जगाने के बावजूद

راون میرے وجود میں زندہ ہے آج بھی
سو بار من کا رام جگانے کے باوجود
                                                                                                  - के.पी. अनमोल

(25)
ایسا نہیں کہ ان سے محبت نہیں رہی
جذبات میں وہ پہلی سی شدت نہیں رہی

ऐसा नहीं कि उन से मोहब्बत नहीं रही
जज़्बात में वो पहली सी शिद्दत नहीं रही
                                                 - ख़ुमार बाराबंकवी

बहरे खफ़ीफ मुसद्दस मख़बून के कुछ उदाहरण - 2

बहरे खफ़ीफ मुसद्दस मख़बून के कुछ उदाहरण-2.   2122 1212 22

(11)
بندگی ہم نے چھوڑ دی ہے فراز
کیا کریں لوگ جب خدا ہو جائیں

बंदगी हमने छोड़ दी है फ़राज़
क्या करें लोग जब ख़ुदा हो जाएँ
                                  - अहमद फ़राज़

(12)
درد ہو تو دوا کرے کوئی
عشق گر ہو تو کیا کرے کوئی

दर्द हो तो दवा करे कोई
इश्क़ गर हो तो क्या करे कोई
                                                         - मिर्ज़ा असमान जाह अंजुम

(13) 
નવમા ધોરણની પલ્લવી પંડ્યા,
ઘંટ વાગ્યો અને પરી થઈ ગઈ.
                                             - અદમ ટંકારવી
(14)
રૂપ એનું જફા-નિપુણ છે તો
પ્રેમ મારો વફા-વિશારદ છે
                                               - અમૃત ઘાયલ
(15)
کیا ستم ہے کہ اب تری صورت
غور کرنے پہ یاد آتی ہے

क्या सितम है कि अब तिरी सूरत
ग़ौर करने पे याद आती है
                                      - जौन एलिया

(16)
जाने क्या हो गया है मौसम को , 
धूप ज़्यादा है चाँदनी कम है
                                       - आरफ़ा ख़ानम शेरवानी

(17)
ज़िंदगी यूँ हुई बसर तन्हा,
काफ़िला साथ और सफ़र तन्हा
                                      - गुलज़ार

زندگی یوں ہوئی بسر تنہا
قافلہ ساتھ اور صفر تنہا

(18)
हम-सफर चाहिए हुजूम नहीं
इक मुसाफ़िर भी क़ाफ़िला है मुझे
                                    - अहमद फ़राज़

ہم سفر چاہیئے ہجوم نہیں
اک مسافر بھی قافلہ ہے مجھے

12 ગુરુની બહરના ઉદાહરણો

जिन की यादों से रौशन हैं मेरी आँखें
दिल कहता है उन को भी मैं याद आता हूँ
                                                                     हबीब जालिब

جن کی یادوں سے روشن ہیں میری آنکھیں
دل کہتا ہی ان کو بھی میں یاد آتا ہوں

Friday, July 10, 2015

इतना नाजुक हैं तो फिर घर से निकलता क्यों है (सिया सचदेव)

इतना नाजुक हैं तो फिर घर से निकलता क्यों है
जिस्म जलता है तो फिर धूप में चलता क्यों हैं।

रात भर यूँ ही फिरा करता हैं आवारा सा
चाँद से इतना कोई पूछे निकलता क्यों है।

तुझ को आता नहीं दुश्वारियां सहने का हुनर
तो मुसाफिर राहे दुश्वार पे चलता क्यों है।

जब तेरे साथ नहीं है कोई रिश्ता मेरा
फिर तुझे देख के दिल मेरा मचलता क्यूँ है।

क्या तुझे आज भी इन्सान की पहचान नहीं
ज़र्फ़ वाला है तो कमज़र्फ से मिलता क्यूँ है।

हम हैं हर हाल में उस शख्स पे क़ुर्बान :सिया:
जाने वो रोज़ नए रंग बदलता क्यों है

सिया सचदेव

Saturday, July 4, 2015

बहरे रमल मुसम्मन मशकूल सालिम मज़ाइफ़ के कुछ उदाहरण

बहरे रमल मुसम्मन मशकूल सालिम मज़ाइफ़ के कुछ उदाहरण। 1121 2122 1121 2122, લલગાલ ગાલગાગા લલગાલ ગાલગાગા

ہوئے مر کے ہم جو رسوا ہوئے کیوں نہ غرق دریا
نہ کبھی جنازہ اٹھتا نہ کہیں مزار ہوتا

हुए मर के हम जो रुस्वा हुए क्यूँ न ग़र्क़-ए-दरिया
न कभी जनाज़ा उठता न कहीं मज़ार होता
                                                                 - मिर्ज़ा ग़ालिब

बहरे रमल मुसम्मन महज़ूफ़ के कुछ उदाहरण - 2

बहरे रमल मुसम्मन महज़ूफ़ के कुछ उदाहरण : भाग-2 

(11)
ચાહવામાં હૂંફ છે કેવળ અમુક માત્રા સુધી
એ પછી તો માત્ર આડેધડ દઝાતું હોય છે.
                                                                           - હેમેન શાહ
(12)
શકય હો તો એક બે ભૂલો નજર -અંદાજ કર,
એમની પાછળ કદી માણસ મજાનો હોય છે.
                                                                             - હિમાંશુ ભટ્ટ

(13)
ज़िंदगी अपनी मुसलसल चाहतों का इक सफ़र
इस सफ़र में बार-हा मिल कर बिछड़ जाता है वो

زندگی اپنی مسلسل چاہتوں کا اک سفر
اس سفر میں بارہا مل کر بچھڑ جاتا ہے وہ
                                                                               - इब्राहीम अश्क

(14)
اب یہ عالم ہے کہ غم کی بھی خبر ہوتی نہیں
اشک بہ جاتے ہیں لیکن آنکھ تر ہوتی نہیں

अब ये आलम है कि ग़म की भी ख़बर होती नहीं
अश्क बह जाते हैं लेकिन आँख तर होती नहीं
                                                             - क़ाबिल अजमेरी

(15)
ایک ایسی بھی تجلی آج مےخانے میں ہے
لطف پینے میں نہیں ہے بلکہ کھو جانے میں ہے

एक ऐसी भी तजल्ली आज मय ख़ाने में है
लुत्फ़ पीने में नहीं है बल्कि खो जाने में है
                                                        - असग़र गोंडवी

(16)
وہ نہ آئےگا ہمیں معالوم تھا اس شام بھی
انتظار اس کا مگر کچھ سوچ کر کرتے رہے

वो न आएगा हमें मालूम था उस शाम भी,
इंतिजार उस का मगर कुछ सोच कर करते रहे
                                                       - परवीन शाकिर

(17)
نیند اس کی ہے دماغ اس کا ہے راتیں اس کی ہیں
تیری زلفیں جس کے بازو پر پریشاں ہو گئیں

नींद उस की है दिमाग़ उस का है रातें उस की हैं
तेरी ज़ुल्फ़ें जिस के बाज़ू पर परेशाँ हो गईं
                                                         - मिर्ज़ा ग़ालिब

(18)
لوگ ملبوں میں دبے سائے بھی دفنانے لگے
زلزلہ اہل زمیں کو بدحواسی دے گیا

लोग मलबों में दबे साए भी दफ़नाने लगे
ज़लज़ला अहल-ए-ज़मीं को बद-हवासी दे गया
                                                                                                  - मोहसीन नक़वी

(19)

گو مجھے احساس_تنہائی رہا شدت کے ساتھ
کاٹ دی آدھی صدی ایک اجنبی عورت کے ساتھ

गो मुझे एहसास-ए-तन्हाई रहा शिद्दत के साथ
काट दी आधी सदी एक अजनबी औरत के साथ
                                                                                                         - अनवर शऊर

(20)

گو ذرا سی بات پر برسوں کے یارانے گئے
لیکن اتنا تو ہوا کچھ لوگ پہچانے گئے

गो ज़रा सी बात पर बरसों के याराने गए
लेकिन इतना तो हुआ कुछ लोग पहचाने गए
                                                - ख़ातिर ग़ज़नवी

Friday, July 3, 2015

बहरे-हज़ज मुसम्मन सालिम के कुछ उदाहरण-2

बहरे-हज़ज मुसम्मन सालिम के कुछ उदाहरण-2. 1222 1222 1222 1222,
લગાગાગા લગાગાગા લગાગાગા લગાગાગા

(11)
خدا شرمائے ہاتھوں کو کہ رکھتے ہیں کشاکش میں
کبھی میرے گریباں کو کبھی جاناں کے دامن کو

ख़ुदा शरमाए हाथों को कि रखते हैं कशाकश में
कभी मेरे गरेबाँ को कभी जानाँ के दामन को
                                                    - ग़ालिब

(12)
अलग बैठे थे फिर भी आँख साक़ी की पड़ी हम पर
अगर है तिश्नगी कामिल तो पैमाने भी आएँगे
                                                       - मज़रूह सुलतानपुरी

الگ بیٹھے تھے پھر بھی آنکھ ساقی کی پڑھی ہم پر
اگر ہے تشنگی کامل تو پیمانے بھی آئیں گے

(13)

ملاتے ہو اسی کو خاک میں جو دل سے ملتا ہے
مری جاں چاہنے والا بڑی مشکل سے ملتا ہے

मिलाते हो उसी को ख़ाक में जो दिल से मिलता है
मिरी जाँ चाहने वाला बड़ी मुश्किल से मिलता है
                                                                 - दाग़ देहलवी
(14)
उदासी, शाम, तन्हाई, कसक यादों की, बेचैनी,
मुझे सब सौंप कर सूरज उतर जाता है पानी में !
                                                                - अलीना इतरत

(15)
मेरी क़ीमत को सुनते हैं तो गाहक लौट जाते हैं
बहुत कमयाब हो जो शय वो होती है गिराँ अक्सर
                                                                                                       - नश्तर ख़ानक़ाही

(16)

محبت تھی چمن سے لیکن اب یہ بد دماغی ہے
کہ موج بوئے گل سے ناک میں آتا ہے دم میرا

मुहब्बत थी चमन से लेकिन अब ये बद-दिमाग़ी है
कि मौज-ए-बू-ए-गुल से नाक में आता है दम मेरा
                                                             - मिर्ज़ा ग़ालिब

(17)
થયાં છે એમને આ કેટલાં સારાં શુકન બેફામ,
જનાજો મારો નીકળ્યો એમની બારાતને વખતે.
                                                        - બેફામ

(18)
જગા એમાં મને મળતી નથી એમાં નવાઈ શી?
હજી મારા હ્રદય કરતાં જગત આ બહુ જ નાનું છે. 
                                                               - બેફામ

(19)
نہ وہ آئیں کہ راحت ہو نہ موت آئے کہ فرصت ہو
پڑا ہے دل کشاکش میں نہ غم نکلے نہ دم نکلے

न वो आएँ कि राहत हो न मौत आए कि फ़ुर्सत हो
पड़ा है दिल कशाकश में न ग़म निकले न दम निकले
                                                             - जलील मानिकपुरी

(20)
محبت رنگ دے جاتی ہے جب دل دل سے ملتا ہے
مگر مشکل تو یہ ہے دل بڑی مشکل سے ملتا ہے

मोहब्बत रंग दे जाती है जब दिल दिल से मिलता है
मगर मुश्किल तो ये है दिल बड़ी मुश्किल से मिलता है
                                                        - जलील मानिकपुरी

रमल मुसम्मन मख़बून महज़ूफ़ अब्तर के कुछ उदाहरण-2

बहरे रमल मुसम्मन मख़बून महज़ूफ़ अब्तर: 2122 1122 1122 22 or 2122 1122 1122 112. भाग-2

(11)
हम को मालूम है जन्नत की हक़ीक़त लेकिन
दिल के ख़ुश रखने को 'ग़ालिब' ये ख़याल अच्छा है
                                               - मिर्ज़ा ग़ालिब

کیسے مانیں کہ انہیں بھول گیا تو اے کیفؔ
ان کے خط آج ہمیں تیرے سرہانے سے ملے


(12)
कैसे मानें कि उन्हें भूल गया तू ऎ कैफ़
उन के ख़त आज हमें तेरे सिरहाने से मिले
                                       - कैफ़ भोपाली

(13)
کچھ تو تنہائی کی راتوں میں سہارا ہوتا
تم نہ ہوتے نہ سہی ذکر تمہارا ہوتا

कुछ तो तन्हाई की रातों में सहारा होता
तुम न होते न सही ज़िक्र तुम्हारा होता
                                                                                             (अख़्तर शिरानी)

(14)
کتنا اچھا تھا کہ ہم بھی جیا کرتے تھے فرازؔ
غیر معروف سے گمنام سے پہلے پہلے

कितना अच्छा था कि हम भी जिया करते थे 'फ़राज़'
ग़ैर-मारूफ़ से गुमनाम से पहले पहले
                                                                                                       - अहमद फ़राज़

(15)

ان کے دیکھے سے جو آ جاتی ہی منہ پر رونق
وہ سمجھتے ہیں کہ بمار کا حال اچھا ہی

उन के देखे से जो आ जाती है मुँह पर रोनक
वो समझते हैं कि बीमार का हाल अच्छा है
                                                           मिर्ज़ा ग़ालिब

(16)

اپنے جلنے میں کسی کو نہیں کرتے ہیں شریک
رات ہو جائے تو ہم شمع بجھا دیتے ہیں

अपने जलने में किसी को नहीं करते हैं शरीक
रात हो जाए तो हम शमा बुझा देते हैं
                                        - सबा अकबराबादी

(17)
اس کے دشمن ہیں بہت آدمی اچھا ہوگا
وہ بھی میری ہی طرح شہر میں تنہا ہوگا

उस के दुश्मन हैं बहुत आदमी अच्छा होगा
वो भी मेरी ही तरह शहर में तन्हा होगा
                                  - निदा फ़ाज़ली

(18)

دل کا کیا ہے وہ تو چاہے گا مسلسل ملنا
وہ ستم گر بھی مگر سوچے کسی پل ملنا

दिल का क्या है वो तो चाहेगा मुसलसल मिलना
वो सितमगर भी मगर सोचे किसी पल मिलना
                                                                                                          - परवीन शाक़िर

(19)

આંખનો દોષ ગણે છે બધા દિલને બદલે,
ચોર નિર્દોષ ઠરી જાય તો કહેવાય નહીં
                                                                                                         - અમૃત ઘાયલ

(20)
دل کا کیا حال کہوں صبح کو جب اس بت نے
لے کے انگڑائی کہا ناز سے ہم جاتے ہیں

दिल का क्या हाल कहूँ सुब्ह को जब उस बुत ने
ले के अंगड़ाई कहा नाज़ से हम जाते हैं
                                                                                                       - दाग़ दहलवी

Thursday, July 2, 2015

कुछ गुजराती अशआर के तरजुमें

हमारे गुजरात के कुछ बेहतरीन शायरों के अशआर के तरजुमें पेश करने जा रहा हूँ।

(1) 
હો ગુર્જરીની ઓથ કે ઉર્દૂની ઓ 'મરીઝ', 
ગઝલો ફક્ત લખાય છે દિલની ઝબાનમાં
                                                                   (મરીઝ)

हो गुर्जरी की आड़ या उर्दू की ओ मरीज़
ग़ज़लें लिखी जाती हैं तो दिल की ज़बान में 
                                                                  (मरीज़)

ہو گُرجری کی آڑ یا اردو کی او مریزؔ
غزلیں لکھی جاتی ہیں تو دل کی زبان میں
                                                           (مریز)

(2)
ઝાંઝવા જળ સીંચશે એ આશ પર,
રણમાં તૃષ્ણાએ કરી છે વાવણી,
                                          (શૂન્ય પાલનપુરી)

सराब कर दे अगर आबपाशी सहरा में, 
ये आरज़ू पे की है तिश्नगी ने बोआई, 
                                      (शून्य पालनपुरी) 

سراب کر دے اگر آبپاشی سحرا میں 
یہ آرزو پہ کی ہے تشنگی نے بوائی
                                         (شونیہ پالنپُری)