Pages

Saturday, April 25, 2015

દુ:ખ વગર, દર્દ વગર, દુ:ખની કશી વાત વગર (અમૃત ઘાયલ)


દુ:ખ વગર, દર્દ વગર, દુ:ખની કશી વાત વગર,
મન વલોવાય છે ક્યારેક વલોપાત વગર.

આંખથી આંખ લડી બેઠી કશી વાત વગર,
કંઈ શરૂ આમ થઈ વાત શરૂઆત વગર.

કોલ પાળે છે ઘણી વાર કબૂલાત વગર,
એ મળી જાય છે રસ્તામાં મુલાકાત વગર.

એમ મજબૂરી મહીં મનની રહી ગઈ મનમાં,
એક ગઝલ જેમ મરી જાય રજૂઆત વગર.

આ કલા કોઈ શીખે મિત્રો કનેથી ‘ઘાયલ’,
વેર લેવાય છે શી રીતે વસૂલાત વગર.

-અમૃત ‘ઘાયલ

કાજળભર્યાં નયનના કામણ મને ગમે છે (અમૃત ઘાયલ)

કાજળભર્યાં નયનના કામણ મને ગમે છે,
કારણ નહીં જ આપું કારણ મને ગમે છે.

લજ્જા થકી નમેલી પાંપણ મને ગમે છે
ભાવે છે ભાર મનને, ભારણ મને ગમે છે.

જીવન અને મરણની હર ક્ષણ મને ગમે છે,
ઝેર હોય અથવા મારણ મને ગમે છે.

ખોટી તો ખોટી હૈયાધારણ મને ગમે છે,
જળ હોય ઝાંઝવાંનાં તોપણ મને ગમે છે.

હસવું સદાય હસવું, દુઃખમાં અચૂક હસવું,
દીવાનગી તણું આ ડહાપણ મને ગમે છે.

આવી ગયાં છો આંસૂ લૂછો નહીં ભલા થઈ
આ બારે માસ લીલાં તોરણ મને ગમે છે.

લાવે છે યાદ ફૂલો છબો ભરી ભરીને,
છે ખૂબ મહોબતીલી માલણ, મને ગમે છે.

દિલ શું હવે હું પાછી દુનિયાય પણ નહીં દઉં,
એ પણ મને ગમે છે, આ પણ મને ગમે છે.

હું એટલે તો એને વેંઢારતો રહું છું,
સોગંદ જિંદગીનાં! વળગણ મને ગમે છે.

ભેટ્યો છું મોત ને પણ કૈં વાર જિંદગીમાં!
આ ખોળિયા ની જેમ જ ખાંપણ મને ગમે છે.

‘ઘાયલ’ મને મુબારક આ ઊર્મિકાવ્ય મારાં,
મે રોઈને ભર્યાં છે, એ રણ મને ગમે છે.

(અમૃત ઘાયલ)


Friday, April 24, 2015

मिलती है जिन्दगी में, मोहब्बत कभी कभी (साहिर लुधियानवी)

मिलती है जिन्दगी में, मोहब्बत कभी कभी 
होती है दिलबरों की इनायत कभी कभी 

शर्मा के मुँह ना फेर नज़र के सवाल पर 
लाती है ऐसे मोड़ पर किस्मत कभी कभी 

खुलते नहीं हैं रोज दरीचे बहार के 
आती है जान-ए-मन ये क़यामत कभी कभी 

तनहा न कट सकेंगे जवानी के रास्ते 
पेश आएगी किसी की जरुरत कभी कभी 

फिर खो न जाये हम कहीं दुनिया की भीड़ में 
मिलती है पास आने की मोहलत कभी कभी

गीतकार : साहिर लुधियानवी, गायक : लता मंगेशकर, संगीतकार : रवी, चित्रपट : आँखे (१९६८) / Lyricist : Saahir Ludhiyanvi, Singer : Lata Mangeshkar, Music Director : Ravi, Movie : Ankhen (1968)

Thursday, April 23, 2015

मेरा एक मशवरा है, इल्तेजा नहीं (जौन एलिया)

मेरा एक मशवरा है, इल्तेजा नहीं
तू मेरे पास से इस वक़्त, जा नहीं

कोई दम चैन पड़ जाता मुझे भी
मगर मैं खुद से दम भर को जुदा नहीं

पता है जाने किसका, नाम मेरा
मेरा कोई पता, मेरा पता नहीं

सफर दरपेश है एक बेमसाफ़त
मसाफ़त हो तो कोई फासला नहीं

वो खुशबू मुझसे बिछड़ी थी यह कहकर
मनाना सबको पर अब रूठना नहीं

हैं सब एक दुसरे की जुस्तजू में
मगर कोई किसी को भी मिला नहीं

हमारा एक ही तो मुद्दा था
हमारा और कोई मुद्दा नहीं

कभी खुद से मुकर जाने में क्या है
मैं दस्तावेज़ पे लिखा हुआ नहीं

येही सब कुछ था, जिस दम वो यहाँ था
चले जाने पे उसके, जाने क्या नहीं

बिछड़ के जान तेरे आस्ताँ से
लगाया जी बहुत, पर जी लगा नहीं

जौन एलिया

तुझे कौन जानता था मेरी दोस्ती से पहले (कैफ़ भोपाली)

तुझे कौन जानता था मेरी दोस्ती से पहले
तेरा हुस्न कुछ नहीं था मेरी शाइरी से पहले

इधर आ रक़ीब मेरे मैं तुझे गले लगा लूँ
मेरा इश्क़ बे-मज़ा था तेरी दुश्मनी से पहले

कई इंक़िलाब आए कई ख़ुश-ख़िराम गुज़रे
न उठी मगर क़यामत तेरी कम-सिनी से पहले

मेरी सुब्ह के सितारे तुझे ढूँढती हैं आँखें
कहीं रात डस न जाए तेरी रौशनी से पहले
- कैफ़ भोपाली

रश्क कहता है के उस का ग़ैर से इख़्लास हैफ़...अक़्ल कहती है के वो बे-मेहर किस का आश्ना (ग़ालिब)

Source: http://rekhta.org

मज़ारिअ मुसम्मन अख़रब मक्फ़ूफ़ मक़्सूर महज़ूफ़ छंद के कुछ उदाहरण-1

मज़ारिअ मुसम्मन अख़रब मक्फ़ूफ़ मक़्सूर महज़ूफ़ छंद के कुछ उदाहरण-1: 221 2121 1221 212

(1)
બુડબુડ થશે અવાજ ઘડાને નમાવતા,
ઝીણી કો' માછલીને ઘટસ્ફોટ લાગશે!
                                                                    (ભગવતીકુમાર શર્મા)

(2)
ઘટના, પ્રસંગ ના કશો કોઈ બનાવ છે, 
આખા શહેરમાં પછી શાનો તનાવ છે?
                                                               (દિનેશ ડોંગરે 'નાદાન')

(3)
તકદીર ખુદ ખુદાએ લખી પણ ગમી નથી,
સારું થયું કે કોઇ મનુજે લખી નથી
                                                         (જલન માતરી)

(4)
મંઝિલને ઢૂંઢવા દિશાઓ કપરી જવું પડે,
છોડી જૂનું વતન નવી નગરી જવું પડે
                                                            (રવિ ઉપાધ્યાય)

(5)
શ્રદ્ધા જ મારી લઈ ગઈ મંઝિલ ઉપર મને,
રસ્તો ભૂલી ગયો તો દિશાઓ ફરી ગઈ!
                                                                                       (ગની દહીંવાળા)
(6)
ઓચિંતો મધ્યરાત્રીએ ટહુકો થયો હશે,
બીજું તો કોણ હોય આ ટાણે સ્મરણ વિના ?

ચિન્હો કોઈ વિરામનાં એમાં મળ્યા નહીં,
કોણે લખી આ જિન્દગીને વ્યાકરણ વિના ?
                                                                          (ઉદયન ઠક્કર)
(7)
કઠણાઈ મારી કેવી હશે, ક્યાસ કાઢજો,
વાંકું હતું નસીબ ને જીવન સીધું હતું
                                                           (બેફામ)
(8)
જીવનમાં રોજ શીખું છું હરદમ નવું નવું,
એ છે નિશાળ જેમાં રજા આવતી નથી
                                                                 અશરફ ડબાવાલા
(9)
મળતા નથી એ વાતની ફરિયાદ પણ નથી,
ક્યારે મળ્યા હતા એ મને યાદ પણ નથી.
                                                        મનહરલાલ ચોક્સી

(10)
હૈયા મહીં અનેક વમળ ભારી, સુપ્ત છે,
સારું છે કે સ્વજનથી એ સઘળુંય ગુપ્ત છે.
                                                  - મગન 'મંગલપંથી'

ज़िक्र उस परीवश का और फिर बयां अपना (ग़ालिब)

ज़िक्र उस परीवश का और फिर बयां अपना 
बन गया रक़ीब आख़िर था जो राज़दां अपना 

मय वो क्यों बहुत पीते बज़्म-ए-ग़ैर में, यारब 
आज ही हुआ मंज़ूर उनको इम्तहां अपना 

मंज़र इक बुलंदी पर और हम बना सकते 
अर्श से उधर होता काश के मकां अपना 

दे वो जिस क़दर ज़िल्लत हम हँसी में टालेंगे 
बारे आशना निकला उनका पासबां अपना 

दर्द-ए-दिल लिखूँ कब तक, ज़ाऊँ उन को दिखला दूँ 
उँगलियाँ फ़िगार अपनी ख़ामा ख़ूँ-चकाँ अपना 

घिसते-घिसते मिट जाता आप ने अ़बस बदला 
नंग-ए-सिजदा से मेरे संग-ए-आस्तां अपना 

ता करे न ग़म्माज़ी, कर लिया है दुश्मन को 
दोस्त की शिकायत में हम ने हमज़बां अपना 

हम कहाँ के दाना थे, किस हुनर में यकता थे 
बेसबब हुआ "ग़ालिब" दुश्मन आसमां अपना


बहरे मुजतस मुसमन मख़बून महज़ूफ के कुछ उदाहरण-1

बहरे मुजतस मुसमन मख़बून महज़ूफ के कुछ उदाहरण. 1212 1122 1212 22

(1)
'जमाल' खेल नहीं है कोई ग़ज़ल कहना
कि एक बात बतानी है, इक छुपानी है
                                                                                                 - जमाल एहसानी

(2)
بہار آئے تو میرا سلام کہہ دینا
مجھے تو آج طلب کر لیا ہے صحرا نے

बहार आए तो मेरा सलाम कह देना
मुझे तो आज तलब कर लिया है सहरा ने
                                                        - क़ैफ़ी आज़मी

(3)
جگا سکے نہ ترے لب لکیر ایسی تھی
ہمارے بخت کی ریکھا بھی میرؔ ایسی تھی

जगा सके न तेरे लब लकीर ऐसी थी
हमारे बख़्त की रेखा भी 'मीर' ऐसी थी
                                                                                                      - परवीन शाकिर
(4)

تمہارے خط میں نیا اک سلام کس کا تھا
نہ تھا رقیب تو آخر وہ نام کس کا تھا

तुम्हारे ख़त में नया इक सलाम किस का था
न था रक़ीब तो आख़िर वो नाम किस का था
                                                                                                        - दाग़ देहलवी

(5)
तमाम उम्र ही लग जाये भूलने में उसे
किसी ग़रीब पे इतना करम नहीं करना
                                                        - दीक्षित दनकौरी

(6)
نہ گل کھلے ہیں نہ ان سے ملے نہ مے پی ہے
عجیب رنگ میں اب کے بہار گزری ہے

न गुल खिले हैं न उन से मिले न मय पी है
अजीब रंग में अब के बहार गुज़री है
                                                                                                  - फ़ैज़ अहमद फ़ैज़

(7)
سنبھل کے چلنے کا سارا غرور ٹوٹ گیا
اک ایسی بات کہی اس نے لڑکھڑاتے ہوئے

सँभल के चलने का सारा ग़ुरूर टूट गया
इक ऐसी बात कही उस ने लड़खड़ाते हुए
                                                                                                - अज़हर इनायती

(8)

نتیجہ ایک سا نکلا دماغ اور دل کا
کہ دونوں ہار گئے امتحاں میں دنیا کے
                                                       اعجاز گل

नतीजा एक सा निकला दिमाग़ और दिल का
कि दोनो हार गए इम्तिहाँ में दुनिया के
                                                            एजाज़ गुल

(9)
نہیں ضرور کہ مر جائیں جاں نثار تیرے
یہی ہے موت کہ جینا حرام ہو جائے

नहीं ज़रूर कि मर जाएँ जाँ-निसार तेरे
यही है मौत कि जीना हराम हो जाए
                                                 फ़ानी बदायुनी

(10)

یہ دل عجیب ہے اکثر کمال کرتا ہے
جواب جن کا نہیں وہ سوال کرتا ہے

ये दिल अजीब है अक्सर सवाल करता है
जवाब जिन का नहीं वो सवाल करता है
                                                             - पिन्हान

जब लगे ज़ख़्म तो क़ातिल को दुआ दी जाये (जाँ निसार अख़्तर)

जब लगे ज़ख़्म तो क़ातिल को दुआ दी जाये
है यही रस्म तो ये रस्म उठा दी जाये

तिश्नगी कुछ तो बुझे तिश्नालब-ए-ग़म की
इक नदी दर्द के शहरों में बहा दी जाये

दिल का वो हाल हुआ ऐ ग़म-ए-दौराँ के तले
जैसे इक लाश चट्टानों में दबा दी जाये

हम ने इंसानों के दुख दर्द का हल ढूँढ लिया
क्या बुरा है जो ये अफ़वाह उड़ा दी जाये

हम को गुज़री हुई सदियाँ तो न पहचानेंगी
आने वाले किसी लम्हे को सदा दी जाये

फूल बन जाती हैं दहके हुए शोलों की लवें
शर्त ये है के उन्हें ख़ूब हवा दी जाये

कम नहीं नशे में जाड़े की गुलाबी रातें
और अगर तेरी जवानी भी मिला दी जाये

हम से पूछो ग़ज़ल क्या है ग़ज़ल का फ़न क्या है
चन्द लफ़्ज़ों में कोई आग छुपा दी जाये

ग़ज़ल उसने छेड़ी, मुझे साज़ देना (सफ़ी लखनवी)

ग़ज़ल उसने छेड़ी, मुझे साज़ देना
ज़रा उम्र-ए-रफ़्ता को आवाज़ देना

क़फ़स ले ऊडूँ मैं हवा अब जो सनके
मदद इतनी अय बाल-ए-परवाज़ देना

न खामौश रहना मेरे हम-सफीरों,
जब आवाज़ दूँ तुम भी आवाज़ देना

कोई सीख लें दिल की बेताबियों को,
हर अंजाम में रक़्स-ए-आगाज़ देना

बहर-ए-हज़ज मुसम्मन सालिम के कुछ उदाहरण-1

बहर-ए-हज़ज मुसम्मन सालिम के कुछ उदाहरण-1. 1222 1222 1222 1222,                                  લગાગાગા લગાગાગા લગાગાગા લગાગાગા
(1)
मियाँ वो दिन गए अब ये हिमाकत कौन करता है
वो क्या कहते हैं उसको, हां! मुहब्बत कौन करता है
                                                                                            मेहशर आफ़रीदी

(2)
तुम्हारी बे-रुख़ी ने लाज रख ली बादा-ख़ाने की
तुम आँखों से पिला देते तो पैमाने कहाँ जाते
                                                    क़तील शिफ़ाई

(3)
नहीं रब से शिकायत कोई, इतना बस भरोसा है
लगे आबे-हयात मुझे जो भी उसने परोसा है
                                                                  (निहाल महताब)

(4)
न तेरी शान कम होती न रुतबा ही घटा होता,
जो गुस्से में कहा तुमने वही हँस के कहा होता ।
                                                                  (नामालूम)

(5)
તમે કંટાળશો ના ઠોકરોથી માર્ગની સહેજે,
ખુમારી સાથે હસતું મોઢું રાખીને સફર કરજો.
                                                                                (અઝીઝ કાદરી)
(6)
હજી થોડાંક દેવાલય બનાવી દો, શો વાંધો છે?
કે જેથી સૌ અહીં જીવ્યા કરે માથું નમાવીને!
                                                                          (કિરણ ચૌહાણ)

(7)
અમારી હામ જોઈ સમસમીને રહી ગયો દરિયો,
અમે તરતા રહ્યા બેસીને કાગળના તરાપા પર!
                                                                            (ખલીલ ધનતેજવી)

(8)
સવાલોના જવાબો આપવાની પણ કળા કેવી!
ખબર પૂછું છું ત્યારે હાથમાં અખબાર આપે છે!
                                                                       (મધુમતી મહેતા)

(9)
સફળ થાવાના રસ્તા કોઇ પગલામાં નથી હોતા,
સફળ લોકોનાં પગલાં ક્યાંય રસ્તામાં નથી હોતા.
                                                                   (હેમંત કારિયા)

(10)
સહીને તાપ આપે છાંય, એવું ઝાડ બનવા દે,
મને નિષ્પ્રાપ્ય તત્ત્વોની ધબકતી નાડ બનવા દે,
નથી એવી તમન્ના કે ફૂલોની જેમ હું મહેંકું,
પણ રક્ષવા એ ફૂલોને, થોરની વાડ બનવા દે.
                                                             (અજ્ઞાત)

तिरे जमाल-ए-हक़ीक़त की ताब ही न हुई (जिगर मुरादाबादी)

तिरे जमाल-ए-हक़ीक़त की ताब ही न हुई
हज़ार बार निगह की मगर कभी न हुई

तिरी ख़ुशी से अगर ग़म में भी ख़ुशी न हुई
वो ज़िंदगी तो मोहब्बत की ज़िंदगी न हुई

कहाँ वो शोख़ मुलाक़ात ख़ुद से भी न हुई
बस एक बार हुई और फिर कभी न हुई

वो हम है अहल-ए-मोहब्बत की जान से दिल से
बहुत बुखार उठे आँख शबनमी न हुई

ठहर ठहर दिल-ए-बेताब प्यार तो कर लूँ
अब उस के बाद मुलाक़ात फिर हुई न हुई

मिरे ख़याल से भी आह मुझ को बोद रहा
हज़ार तरहा से चाहा बराबरी न हुई

हम अपनी रिदी-ओ-ताअत पे ख़ाक नाज़ करें
क़ुबूल-ए-हज़रत-ए-सुल्ताँ हुई हुई न हुई

कोई बढ़े न बढ़े हम तो जान देते हैं
फ़िर ऎसी चश्म-ए-तवज्जोह हुई हुई न हुई

तमाम हर्फ़-ओ-हिकायत तमाम दीदा-ओ-दिल
इस एहतिमाम पे भी शरह-ए-आशिक़ी न हुई

फ़र्सुदा-ख़ातिरी-ए-इश्क़ ए मआज़-अल्लाह
ख़याल-ए-यार से भी कुछ शगुफ़्तगी न हुई

तिरी निगाह-ए-करम को भी आज़मा देखा
अज़ीयतो में न होनी थी कुछ कमी न हुई

किसी की मस्त-निगाही ने हाथ थाम लिया
शरीक-ए-हाल जहाँ मीरी बे-ख़ुदी न हुई

सबा ये उन से हमारा पयाम कह देना
गए हो जब से सुब्ह ओ शाम ही न हुई

वो कुछ सही न सही फिर भी ज़ाहिद-ए-नादाँ
बड़े बड़ों से मोहब्बत में काफ़िरी न हुई

इधर से भी है सिवा कुछ उधर की मजबूरी
कि हम ने आह तो की अन से आह भी न हुई

ख़याल-ए-यार सलामत तुझे ख़ुदा रक्खे
तिरे बग़ैर कभी घर में रौशनी न हुई

गए थे हम भी 'जिगर' जल्वा-गाह-ए-जानाँ में
वो पूछते ही रहे हम से बात भी न हुई

बहरे मज़ारिअ मुसम्मन मक्फ़ूफ़ मक्फ़ूफ़ मुख़न्नक मक़्सूर के कुछ उदाहरण

बहरे मज़ारिअ मुसम्मन मक्फ़ूफ़ मक्फ़ूफ़ मुख़न्नक मक़्सूर : 221 2122 221 2122

(1)
हम तौर-ए-इश्क़ से तो वाक़िफ़ नहीं हैं लेकिन
सीने में जैसे कोई, दिल को मला करे है
                                                                               -मीर तक़ी मीर 

(2)
तुम फिर उसी अदा से अँगड़ाई ले के हँस दो
आ जाएगा पलट कर गुज़रा हुआ ज़माना
                                                                              - शकील बदायुनी

(3)
اول تو تھوڑی تھوڑی چاہت تھی درمیاں میں
پھر بات کہتے لکنت آنے لگی زباں میں

अव्वल तो थोड़ी थोड़ी चाहत थी दरमियाँ में
फिर बात कहते लुक्नत आने लगी ज़बाँ में
                                                                         - मुसहफ़ी ग़ुलाम हमदानी

(4)
اک بار اس نے مجھ کو دیکھا تھا مسکرا کر
اتنی تو ہے حقیقت باقی کہانیاں ہیں

इक बार उस ने मुझ को देखा था मुस्कुरा कर
इतनी तो है हक़ीक़त बाक़ी कहानियाँ हैं
                                                          - मेला राम वफ़ा

ज़िंदगी मौत के पहलू में भली लगती है (सलीम अहमद)

ज़िंदगी मौत के पहलू में भली लगती है
घास इस क़ब्र पे कुछ और हरी लगती है

रोज़ कागज़ पे बनाता हूँ मैं क़दमों के नुक़ूश,
कोई चलता नहीं और हम-सफ़री लगती है

आँख मानूस-ए-तमाशा नहीं होने पाती,
कैसी सूरत है कि हर रोज़ नई लगती है

घास में जज़्ब हुए होंगे ज़मीं के आँसू
पाँव रखता हूँ तो हल्की सी नमी लगती है

सच तो कह दूँ मगर इस दौर के इंसानों को
बात जो दिल से निकलती है बुरी लगती है

मेरे शीशे में उतर आई है जो शाम-ए-फ़िराक़
वो किसी शहर-ए-निगाराँ की परी लगती है

बूँद भर अश्क भी टपका न किसी के ग़म में
आह हर आँख कोई अब्र-ए-तही लगती है

शोर-ए-तिफ़्लाँ भी नहीं है न रक़ीबों का हुजूम
लौट आओ ये कोई और गली लगती है

घर में कुछ कम है ये एहसास भी होता है 'सलीम'
ये भी खुलता नहीं किस शय की कमी लगती है

प्यार मुझसे जो किया तुम ने तो क्या पाओगी (जावेद अख़्तर)

प्यार मुझसे जो किया तुम ने तो क्या पाओगी 
मेरे हालात की आंधी में, बिखर जाओगी 

रंज और दर्द की बस्ती का मैं बाशिंदा हूँ 
ये तो बस मैं हूँ के इस हाल में भी ज़िंदा हूँ 
ख्वाब क्यूँ देखू वो कल जिस पे मैं शरमिंदा हूँ 
मैं जो शरमिंदा हुआ, तुम भी तो शरमाओगी 

क्यों मेरे साथ कोई और परेशान रहे 
मेरी दुनिया है जो वीरान तो वीरान रहे 
जिन्दगी का ये सफ़र तुम पे तो आसान रहे 
हमसफ़र मुझ को बनाओगी तो पछताओगी 

एक मैं क्या अभी आयेंगे दीवाने कितने 
अभी गुन्जेंगे मोहब्बत के तराने कितने 
जिन्दगी तुमको सुनाएगी फ़साने कितने 
क्यूँ समझती हो मुझे भूल नहीं पाओगी

गीतकार : जावेद अख्तर, गायक : जगजीत सिंग, संगीतकार : कुलदिप सिंग, चित्रपट : साथ साथ (१९८२) / Lyricist : Javed Akhtar, Singer : Jagjit Singh, Music Director : Kuldeep Singh, Movie : Saath Saath (1982)


जो तुम को हो पसंद वही बात कहेंगे (इंदिवर)

जो तुम को हो पसंद वही बात कहेंगे 
तुम दिन को अगर रात कहो, रात कहेंगे 

देते ना आप साथ तो मर जाते हम कभी के 
पूरे हुए हैं आप से अरमां जिन्दगी के 
हम जिन्दगी को आप की सौगात कहेंगे 

चाहेंगे, निभाएँगे, सराहेंगे आप ही को 
आँखों में नाम हैं जब तक देखेंगे आप ही को 
अपनी जुबान से आप के जजबात कहेंगे

गीतकार : इंदिवर, गायक : मुकेश, संगीतकार : कल्याणजी आनंदजी, चित्रपट : सफर - 1970 / Lyricist : Indeevar, Singer : Mukesh, Music Director : Kalyanji Anandji, Movie : Safar - 1970

चलो एक बार फिर से, अजनबी बन जाये हम दोनों (साहिर लुधियानवी)

चलो एक बार फिर से, अजनबी बन जाये हम दोनों 

न मैं तुम से कोई उम्मीद रखू दिलनवाज़ी की 
न तुम मेरी तरफ देखो, ग़लत अंदाज़ नज़रों से 
न मेरे दिल की धड़कन लड़खड़ाये मेरी बातों में 
न जाहिर हो तुम्हारी कश्मकश का राज़ नज़रों से 

तुम्हें भी कोई उलझन रोकती हैं पेशकदमी से 
मुझे भी लोग कहते हैं की ये जलवे पराये हैं 
मेरे हमराह भी रुसवाईयाँ हैं मेरे माज़ी की 
तुम्हारे साथ अभी गुज़री हुई रातों के साये हैं 

तआरुफ़ रोग हो जाये, तो उसको भूलना बेहतर 
तआल्लुक बोझ बन जाये तो उसको तोड़ना अच्छा 
वो अफ़साना जिसे अंजाम तक लाना न हो मुमकिन 
उसे एक खूबसूरत मोड़ दे कर छोड़ना अच्छा

गीतकार : साहिर लुधियानवी, गायक : महेंद्र कपूर, संगीतकार : रवी, चित्रपट : गुमराह (१९६३)
Lyricist : Saahir Ludhiyanvi, Singer : Mahendra Kapoor, Music Director : Ravi, Movie : Gumrah (1963)


जो हम ने दास्ताँ अपनी सुनायी, आप क्यों रोये ? (राजा मेहंदी अली खान)

जो हम ने दास्ताँ अपनी सुनायी, आप क्यों रोये ? 
तबाही तो हमारे दिल पे आयी, आप क्यों रोये ? 

हमारा दर्द-ओ-गम हैं ये, इसे क्यों आप सहते हैं ? 
ये क्यों आँसू हमारे, आप की आँखों से बहते हैं ? 
ग़मों की आग हम ने खुद लगाई, आप क्यों रोये ? 

बहोत रोये मगर अब आप की खातिर ना रोयेंगे 
ना अपना चैन खोकर, आप का हम चैन खोएंगे 
क़यामत आप के अश्कोने ढाई, आप क्यों रोये ? 

न ये आँसू रुके तो, देखिये फिर हम भी रो देंगे 
हम अपने आँसुओं में चाँद तारो को डुबो देंगे 
फना हो जायेगी सारी खुदाई, आप क्यों रोये?

गीतकार : राजा मेहंदी अली खान, गायक : लता मंगेशकर, संगीतकार : मदन मोहन, चित्रपट : वह कौन थी (१९६४) / Lyricist : Raja Mehdi Ali Khan, Singer : Lata Mangeshkar, Music Director : Madan Mohan, Movie : Woh Kaun Thi (1964)


Sunday, April 19, 2015

ये महलों, ये तख्तों, ये ताजों की दुनिया

ये महलों, ये तख्तों, ये ताजों की दुनिया 
ये इंसान के दुश्मन समाजों की दुनिया 
ये दौलत के भूखे रवाजों की दुनिया 
ये दुनिया अगर मिल भी जाये तो क्या है 

हर एक जिस्म घायल, हर एक रूह प्यासी 
निगाहो में उलझन, दिलों में उदासी 
ये दुनिया है या आलम-ए-बदहवासी 
ये दुनिया अगर मिल भी जाये तो क्या है 

जहाँ एक खिलौना है, इंसान की हस्ती 
ये बस्ती है मुर्दा परस्तों की बस्ती 
यहाँ पर तो जीवन से है मौत सस्ती 
ये दुनिया अगर मिल भी जाये तो क्या है 

जवानी भटकती है बदकार बन कर 
जवां जिस्म सजते हैं बाजार बनकर 
यहाँ प्यार होता है व्योपार बनकर 
ये दुनिया अगर मिल भी जाये तो क्या है 

ये दुनिया जहाँ आदमी कुछ नहीं है 
वफ़ा कुछ नहीं, दोस्ती कुछ नहीं है 
यहाँ प्यार की कद्र ही कुछ नहीं है 
ये दुनिया अगर मिल भी जाये तो क्या है 

जला दो इसे, फूँक डालो ये दुनिया 
मेरे सामने से हटा लो ये दुनिया 
तुम्हारी है तुम ही संभालो ये दुनिया 
ये दुनिया अगर मिल भी जाये तो क्या है

गीतकार : साहिर लुधियानवी, गायक : मोहम्मद रफी, संगीतकार : सचिनदेव बर्मन, चित्रपट : प्यासा (१९५७) / Lyricist : Saahir Ludhiyanvi, Singer : Mohammad Rafi, Music Director : Sachindev Burman, Movie : Pyaasa (1957)


Saturday, April 11, 2015

પરોઢ (ઉદયન ઠક્કર)

બરફવાળા ગોળાની લિજ્જત હશે
સૂરજની ઉપર રાતું શરબત હશે!

જુઓ, સૂર્યની લાલ આંખો જુઓ
જરૂર રાતે કોઈ જિયાફત હશે

સૂરજ બૂલડોઝર, અને તારલા...
એ ઝૂંપડીમાં કચડાતી રૈયત હશે!

સૂરજ લિ.ના ઇસ્યૂનું ભરણું ખુલ્યું
બધી ડાળે કલબલ ને મસલત હશે

નકર તારલા રાતપાળી ન લે
ટકા વીસ બોનસની સવલત હશે

-ઉદયન ઠક્કર

Friday, April 10, 2015

दिल चीज क्या है, आप मेरी जान लीजिये (शहरयार)

दिल चीज क्या है, आप मेरी जान लीजिये 
बस एक बार मेरा कहा मान लीजिये 

इस अंजुमन में आप को आना है बार बार 
दीवार-ओ- दर को गौर से पहचान लीजिये 

माना के दोस्तों को नहीं, दोस्ती का फांस 
लेकिन ये क्या के गैर का एहसान लीजिये 

कहिये तो आसमां को जमीन पर उतार लाये 
मुश्किल नहीं है कुछ भी अगर ठान लीजिये

गीतकार : शहरयार, गायक : आशा भोसले, संगीतकार : खय्याम, चित्रपट : उमराव जान (१९८१)
Lyricist : Shaharyaar, Singer : Asha Bhosle, Music Director : Khayyam, Movie : Umrao Jaan (1981)


આ ગીતની શરૂઆત પહેલાં નવોદિત શાયરા રેખા અને પીઢ શાયર એ.કે. હંગલ વચ્ચે મત્લાનો શેર સુધારવા બાબતે સુંદર ચર્ચા થાય છે એના ડાયલોગ માણવા જેવા છે:

रेखा: मौलवी साहब, 
ए.के. हंगल: हाँ..... एक और गझल कह ली? भाई! माशाअल्लाह! क्या रफ़्तार है! सुनाओ...
रेखा: दिल ही नहीं हुज़ूर, मेरी जान लीजिये। 
         बस, एक बार मेरा कहा मान लीजिये।
ए.के. हंगल: वाह ! हम्म..... मत्ला बुरा नहीं है। लेकिन दो बातों का ध्यान रखा करो।
रेखा: जी...
ए.के. हंगल: ख़याल की नज़ाकत और दूसरे....अल्फ़ाज़ की बंदिश। मीर का एक शेर है: नाज़ुकी उसके लब की क्या कहिए......नाज़ुकी उसके लब की क्या कहिए......पंखुड़ी इक गुलाब की सी है!
नसीरुद्दीन शाह: वाह...
रेखा: वाह... 
नसीरुद्दीन शाह: वाह...लेकिन मौलवी साहब, आप तो उस्तादों की बात कर रहे हैं। इन्होनें तो अभी शुरु की है शायरी...
रेखा: मत्ले की इस्लाह कीजिए ना मौलवी साहब!
ए.के. हंगल: अच्छा...तुमने कहा है...दिल ही नहीं हुज़ूर, मेरी जान लीजिये। दिल ही नहीं हुज़ूर......इसके बदले यूँ कहो ना... दिल चीज क्या है, आप मेरी जान लीजिये.....हँ..... दिल चीज क्या है, आप मेरी जान लीजिये....बस, एक बार मेरा कहा मान लीजिये!

Thursday, April 9, 2015

કૅથરિન બૅચર અને હાઈમી પ્રેસલીના ચહેરાની સમાનતા

ઈન્ટરનેટ પર જૅકી ચેન અભિનિત ફ્લૉપ પણ મનોરંજક ફિલ્મ "સ્પાય નૅક્સ્ટ ડોર"માં કાસ્ટના નામો જોતાં કૅથરિન બૅચરનો (Katherine Boecher) ચહેરો અભિનેત્રી હાઈમી પ્રેસલી (Jaime Pressly) સાથે મળતો આવતો હોય એવું લાગ્યું. પ્રસ્તુત છે બે ખૂબસૂરત ચહેરાઓની વિસ્મયકારક સમાનતા:

Katherine Boecher (ડાબે) અને Jaime Pressly (જમણે)


Saturday, April 4, 2015

रस्म-ए-उल्फ़त को निभाए तो निभाए कैसे (नक़्श ल्यालपुरी)

रस्म-ए-उल्फ़त को निभाए तो निभाए कैसे
हर तरफ आग है दामन को बचाए कैसे

दिल की राहों में ऊठते हैं जो दुनिया वालें
कोई कह दे कि वो दीवार गिराए कैसे

दर्द में डूबे हुए नग़में हजारों हैं मगर
साज़-ए-दिल टूट गया हो तो सुनाए कैसे

बोझ होता जो ग़मों का तो ऊठा भी लेते
जिन्दगी बोज़ बनी हो तो ऊठाए कैसे

गीतकार : नक़्श ल्यालपुरी, गायक : लता मंगेशकर, संगीतकार : मदन मोहन, चित्रपट : दिल की राहें (1973)


कोई हमदम ना रहा, कोई सहारा ना रहा (मजरुह सुलतानपुरी)

कोई हमदम ना रहा, कोई सहारा ना रहा 
हम किसी के ना रहे, कोई हमारा ना रहा 

शाम तनहाई की है, आयेगी मंझील कैसे 
जो मुझे राह दिखाए, वही तारा न रहा 

ऐ नज़ारों ना हँसो मिल ना सकूंगा तुमसे 
वो मेरे हो न सके मैं भी तुम्हारा ना रहा 

क्या बताऊ मैं कहा, यूँ ही चला जाता हूँ 
जो मूझे फिर से बुला ले, वो इशारा ना रहा


गीतकार : मजरुह सुलतानपुरी, गायक : किशोर कुमार, संगीतकार : किशोर कुमार, चित्रपट : झूमरू (१९६१)
Lyricist : Majrooh Sultanpuri, Singer : Kishore Kumar, Music Director : Kishore Kumar, Movie : Jhumroo (1961)


पुकारता चला हूँ मैं, गली गली बहार की (मजरुह सुलतानपुरी)

पुकारता चला हूँ मैं, गली गली बहार की 
बस एक छाँव जुल्फ की, बस एक निगाह प्यार की 

ये दिल्लगी ये शौखियाँ सलाम की 
यही तो बात हो रही हैं काम की 
कोई तो मूड़ के देख लेगा इस तरफ 
कोई नज़र तो होगी मेरे नाम की 

सुनी मेरी सदा तो किस यकीन से 
घटा उतर के आ गयी ज़मीन पे 
रही यही लगन तो ऐ दिल-ये-जवां 
असर भी हो रहेगा एक हसीन पे


गीतकार : मजरुह सुलतानपुरी, गायक : मोहम्मद रफी, संगीतकार : ओ. पी. नय्यर, चित्रपट : मेरे सनम - 1965
Lyricist : Majrooh Sultanpuri, Singer : Mohammad Rafi, Music Director : O. P. Nayyar, Movie : Mere Sanam - 1965


अजीब दास्ताँ है ये, कहाँ शुरू कहाँ ख़तम (शैलेन्द्र)

अजीब दास्ताँ है ये, कहाँ शुरू कहाँ ख़तम 
ये मंज़िले हैं कौनसी, न वो समझ सके न हम 

ये रोशनी के साथ क्यों, धुआँ उठा चिराग से 
ये ख्वाब देखती हूँ मैं के जग पडी हूँ ख्वाब से 

मुबारके तुम्हे के तुम किसी के नूर हो गए 
किसी के इतने पास हो के सब से दूर हो गए 

किसी का प्यार लेके तुम नया जहां बसाओगे 
ये शाम जब भी आयेगी, तुम हमको याद आओगे


गीतकार : शैलेन्द्र, गायक : लता मंगेशकर, संगीतकार : शंकर जयकिशन, चित्रपट : दिल अपना और प्रीत पराई (१९६०)

Lyricist : Shailendra, Singer : Lata Mangeshkar, Music Director : Shankar Jaikishan, Movie : Dil Apana Aur Preet Parai (1960)


Friday, April 3, 2015

किया है प्यार जिसे हमने ज़िन्दगी की तरह (क़तील शिफ़ाई)

किया है प्यार जिसे हमने ज़िन्दगी की तरह
वो आशना भी मिला हमसे अजनबी की तरह

किसे ख़बर थी बढ़ेगी कुछ और तारीकी
छुपेगा वो किसी बदली में चाँदनी की तरह

बढ़ा के प्यास मिरी उस ने हाथ छोड़ दिया
वो कर रहा था मुरव्वत भी दिल-लगी की तरह

सितम तो ये है कि वो भी ना बन सका अपना
क़ुबूल हमने किये जिसके ग़म ख़ुशी की तरह

कभी न सोचा था हमने 'क़तील' उस के लिये
करेगा हम पे सितम वो भी हर किसी की तरह


Thursday, April 2, 2015

एहसान मेरे दिल पे तुम्हारा है दोस्तों (हसरत जयपुरी)

एहसान मेरे दिल पे तुम्हारा है दोस्तों 
ये दिल तुम्हारे प्यार का मारा है दोस्तों 

बनता है मेरा काम तुम्हारे ही काम से 
होता है मेरा नाम तुम्हारे ही नाम से 
तुम जैसे मेहरबां का सहारा है दोस्तों 
ये दिल तुम्हारे प्यार का ... 

यारों ने मेरे वास्ते क्या कुछ नहीं किया 
सौ बार शुक्रिया अरे, सौ बार शुक्रिया 
बचपन तुम्हारे साथ गुज़ारा है दोस्तों 
ये दिल तुम्हारे प्यार का ...

गीतकार : हसरत जयपुरी, गायक : मोहम्मद रफी, संगीतकार : शंकर जयकिशन, चित्रपट : गबन (१९६६) / Lyricist : Hasrat Jaipuri, Singer : Mohammad Rafi, Music Director : Shankar Jaikishan, Movie : Gaban (1966)


આમ આદમી પાર્ટીની ટ્રેજડી વિશે કેટલાંક શેર

ગઈકાલ સુધી મૂલ્યનિષ્ઠ અને લોકલક્ષી (ઉર્વિશ કોઠારીનો મનપસંદ શબ્દ!) રાજકારણના એક આશાસ્પદ કિરણ તરીકે જેની ગણત્રી થતી હતી એ આમ આદમી પક્ષ હવે આંતરિક કલહ અને વિખવાદોને કારણે પ્રજાનો વિશ્વાસ તોડી રહેલો જણાય છે ત્યારે આ સ્થિતિમાં કેટલાંક શેર સૂઝે છે, એ પ્રસ્તુત છે:

મારી સમજણના છેડા પર જેની પક્ક્ડ ભારી છે,
મોડે મોડે જાણ થઈ એ માણસ ધંધાદારી છે.
(ચંદ્રેશ મકવાણા 'નારાજ')

શુદ્ધિનો ઠેકો લઈને બેઠી હતી 
એ જમાત આખી શરાબી નીકળી
(અમૃત ઘાયલ)

નવો આજનો આ જમાનો નવો અહીંનો દસ્તૂર છે,
કરાવે નશામુક્ત એ ખુદ નશામાં થયા ચૂર છે.
(નેહલ મહેતા)